Author: admin

sdvsfv 0

sdvsfv

साक्षरता अनिवार्य है । साक्षरता का प्रसार शिक्षा के सार्वजनिकरण रो ही हो सकता है। (2) व्यक्ति का विकास – शिक्षा का मुख्य उद्देश्य व्यक्ति का सर्वागीण शारीरिक, मानसिकएवं आध्यात्मिक विकास है । शिक्षित...

dfgsdfg 0

dfgsdfg

अन्तिम उपलब्धि होगी । 4 शिक्षण प्रशिक्षण तथा पाठ्यवस्तु का प्रणना अधिक कुशलता तथा सावधानी से कियाजायेगा, ऐसा करके ही हम व्यक्ति वस्तु तथा समय की बर्बादी को भविष्य में रोक सकेंगे । टेक्नोलोजी...

dfgdfg 0

dfgdfg

लिए प्रेरित कर सके।8. अनिवार्य शिक्षा तथा निःशुल्क शिक्षा द्वारा तीव्र शिक्षा का प्रसार-प्रचार करना होगा । 9.8 सारांशशिक्षा वह प्रकाश है जिसके द्वारा बालक की समस्त शारीरिक, मानसिक, सामाजिक शक्तियों का विकास होता...

gredf 0

gredf

| विकास (Development) एवं अभिवृद्धि (Growth) कोई पृथक तथ्य नहीं है दोनों ही एक दूसरे के पूरक हैं ।25 2.2 अभिवृद्धि एवं विकास का अर्थअभिवृद्धि एवं विकास ये दोनों शब्द प्रायः बिना कोई भेदभाव...

hgnyuk 0

hgnyuk

। मनोविज्ञान को अग्रेजी में Psychology कहते है । इस शब्द की उत्पत्ति यूनानी भाषा के दो शब्द ‘साइकी’ (Psyche) तथा लोगस (Logo) से मिलकर हुई है । साइकी शब्द का अर्थ है कि...

vsdv 0

vsdv

केन्द्र सरकार ने अपनी अगुवाई में शैक्षिक नीतियों एवं कार्यक्रम बनाने और उनके क्रियान्वयन पर नजर रखने के कार्य को जारी रखो है । इन नीतियों में सन् 1986 की राष्ट्रीय शिक्षा नीति (छक्...

sscdvcew 0

sscdvcew

7397 करोड़ रूपये व्यय का प्रस्ताव है । (8) ई अभिशासन (E-Goverance) पर राष्ट्रीय ज्ञान आयोग की सिफारिश का सरकारद्वारा समर्थन किया गया है । 18.2.5 राष्ट्रीय ज्ञान आयोग राज्य स्तरीय पहलेऐसे अनेक विषय...

dx v sdv 0

dx v sdv

कोठारी आयोग के शिक्षा के सम्बन्ध में दिये गये सुझावों के सम्बन्ध में विचारकों के दो मत सामने आये । एक मत के अनुसार आयोग ने शिक्षा के संबंध में महत्वपूर्ण एवं उपयोगी सुझाव...

acasc 0

acasc

आयोग ने अपने प्रतिवेदन को शिक्षा और राष्ट्रीय प्रगति (Education and National Development) का नाम दिया गया । प्रतिवेदन को तीन भागों में विभक्त किया गया -प्रथम भाग में राष्ट्रीय उद्देश्यों की प्राप्ति के...

sdvsdv 0

sdvsdv

लिए स्पष्ट मापदण्ड निर्धारित करना चाहिए । 4. अध्ययन के प्रत्येक विषय के लिए एकाकी पाठ्य-पुस्तक निर्धारित नहीं होनी चाहिएवरन् उचित संख्या में पुस्तकें, जो निर्धारित स्तर को पूरा करती हों, संबंधित स्कूलों कोचयन...